Вы находитесь на странице: 1из 17

VISION IAS

www.visionias.in

TEST BOOKLET

CSAT APTITUDE TEST – 12 (1749) – 2016


C
Time Allowed: Two Hours Maximum Marks: 200

INSTRUCTIONS

1. IMMEDIATELY AFTER THE COMMENCEMENT OF THE EXAMINATION, YOU SHOULD CHECK THAT THIS BOOKLET
DOES NOT HAVE ANY UNPRINTED OR TORN OR MISSING PAGES OR ITEMS ETC. IF SO, GET IT REPLACED BY A
COMPLETE TEST BOOKLET.

2. ENCODE CLEARLY THE TEST BOOKLET SERIES A, B, C OR D AS THE CASE MAY BE IN THE APPROPRIATE PLACE IN
THE ANSWER SHEET.

3. You have to enter your Roll Number on the Test Booklet in


the Box provided alongside. DO NOT write anything else on
the Test Booklet.

4. This Test Booklet contains 80 items (Questions). Each item is printed in English. Each item comprises four
responses (answers). You will select the response which you want to mark on the Answer Sheet. In case you feel
that there is more than one correct response, mark the response which you consider most appropriate. In any
case, choose ONLY ONE response for each item.

5. You have to mark all your responses ONLY on the separate Answer Sheet provided. See direction in the answers
sheet.

6. All items carry equal marks. Attempt all items. Your total marks will depend only on the number of correct
responses marked by you in the answer sheet. For every incorrect response one-third of the allotted Marks will
be deducted.

7. Before you proceed to mark in the Answer sheet the response to various items in the Test booklet, you have to
fill in some particulars in the answer sheets as per the instruction sent to you with your Admission Certificate.

8. After you have completed filling in all responses on the answer sheet and the examination has concluded, you
should hand over to Invigilator only the answer sheet. You are permitted to take away with you the Test
Booklet.

9. Sheets for rough work are appended in the Test Booklet at the end.

DO NOT OPEN THIS BOOKLET UNTIL YOU ARE ASKED TO DO SO


1
1. सैम ने ऄपने जन्मददवस की पार्टी का अयोजन दकया और त्रनकाला। राके श द्वारा गणना करके त्रनकाला गया दोनों
पार्टी में ऄपने 100 दोस्तों को अमंत्रित दकया। पार्टी में सुआयों के बीच का कोण क्या था?
शात्रमल होने वाला प्रत्येक दोस्त या तो सैम से गले त्रमला (a) 35°
या दिर ईसने सैम से हाथ त्रमलाया या दोनों तरीके (b) 40°
ऄपनाए। पार्टी में शात्रमल होने वाले सभी दोस्तों में से 73 (c) 30°
दोस्त सैम से गले त्रमले जबदक 39 दोस्तों ने सैम से हाथ (d) त्रनधााररत नहीं दकया जा सकता।
त्रमलाया। यदद 27 दोस्तों ने सैम से गले त्रमलने के साथ-
6. रमेश एक मूवी देखने गया। वह बोररग मूवी थी। मूवी के
साथ ईससे हाथ भी त्रमलाया, तो दकतने दोस्त अमंिण
दौरान, ईसने ऄपनी घड़ी को दो बार देखा, और दोनों
के बाद भी पार्टी में शात्रमल नहीं हुए?
बार त्रमनर्ट की सुइ ठीक 12 पर थी। ईसने दोनों ही बार
(a) 27
घड़ी की दोनों सुआयों के बीच का कोण त्रनकाला और
(b) 15
ऄपने त्रमि को दोनों कोणों के बीच का कोण 30° बताया।
(c) 85
मूवी का समय क्या हो सकता है?
(d) त्रनधााररत नहीं दकया जा सकता।
(a) 9:15 pm – 11:45 pm
(b) 9:15 pm – 10:45 pm
2. 100 लोगों के एक समूह में, 75 लोगों के पास सेल फ़ोन
(c) 9:10 pm – 10:40 pm
है, 80 लोगों के पास हाथ घड़ी है और 55 लोगों के पास
(d) 8:05 pm - 9:55 pm
एमपी-थ्री प्लेयर है। 100 लोगों में से प्रत्येक के पास कम
से कम आन तीनों में से एक न एक त्रिवाआस ज़रूर है। 7. सुनीता ने सोमवार को ऄपने बैंक में 10,000 रु. जमा
ऄत्रधकतम दकतने लोगों के पास ये सभी तीनों त्रिवाआस दकए और ईसी माह के बुधवार को ईसने पैसे त्रनकाले।
हैं? यदद ईसने पैसे 1 नवंबर को जमा दकए थे, तो
(a) 80 (b) 75 त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-सी ईसके द्वारा पैसे त्रनकालने की
(c) 55 (d) 100 ददनांक नहीं हो सकती?
(a) 10 तारीख (b) 17 तारीख
3. त्रनम्नत्रलत्रखत त्रवकल्पों में से दकस समय, घंर्टे की सुइ और (c) 24 तारीख (d) 30 तारीख
त्रमनर्ट की सुइ के बीच का कोण ऄत्रधकतम होगा?
8. सोत्रनया को 25 माचा, शत्रनवार तक ऄपने लोन की
(a) 5:30 am (b) 6:30 am
मात्रसक दकश्त चुकानी थी। वह समय पर ऄपनी दकश्त
(c) 11:55 am (d) 2:05 am
नहीं चुका पायी और ईसने ऄगले माह के दूसरे सोमवार
को दकश्त चुकायी। ईसने दकस त्रतत्रथ को ऄपनी दकश्त
4. राजेश ने 3pm और 4pm के बीच दकसी समय घड़ी ऄदा की?
देखी। ईसने देखा दक त्रमनर्ट की सुइ घंर्टे की सुइ के एकदम (a) 3 ऄप्रैल (b) 7 ऄप्रैल
उपर है। ईस समय क्या समय हुअ था? (c) 2 ऄप्रैल (d) 10 ऄप्रैल
(a) 3 बजकर 16 3/11 त्रमनर्ट
त्रनम्नत्रलत्रखत 8 (अठ) प्रश्नों के त्रलए त्रनदेश:
(b) 3 बजकर 14 3/11 त्रमनर्ट
त्रनम्नत्रलत्रखत छह पररच्छेदों को पदढ़ए और प्रत्येक पररच्छेद के अगे
(c) 3 बजकर 13 2/11 त्रमनर्ट अने वाले प्रश्नों के ईत्तर दीत्रजए। आन प्रश्नों के अपके ईत्तर आन
(d) 3 बजकर 16 4/11 त्रमनर्ट पररच्छेदों पर ही अधाररत होने चात्रहए।

5. राके श से 3:10 am बजे एक घड़ी के घंर्टे की सुइ और पररच्छेद 1


त्रमनर्ट की सुइ के बीच का कोण त्रनकालने के त्रलए कहा
त्रवश्व के ऄत्रधकतर रा्ट्र एवं लोग त्रनधानता की त्रस्थत्रत में हैं। ऐसा
गया। ईसने गलत गणना की और 5° कोण ऄत्रधक
क्यों है? क्या त्रनधान लोगों को ऄपनी दुदश
ा ा का दोष देना पयााप्त

2 www.visionias.in ©Vision IAS


है? क्या वे अलसी हैं, क्या ईन्होंने गलत त्रनणाय त्रलए और ऄपनी होने पर सैत्रनकों का वह समूह लाल सागर लौर्टा और ईसे पार कर
वापस अने लगा। ईस समय तक ऄंधेरा हो गया था और जब
त्रस्थत्रत के त्रलए के वल स्वयं ही त्रज्‍मेदार रहे हैं? ईनकी सरकारों के
ईन्होंने सागर पार करना अर्‍भ दकया, तब तक ज्वार ईठने लगा
बारे में क्या कहा जा सकता है? क्या ईन्होंने वस्तुत: त्रवकास की
था। ऄंधेरे में वापस जाने का मागा देखना संभव नहीं हो रहा था।
सिलता को क्षत्रत पहुुँचाने वाली नीत्रतयाुँ ऄपनाईं? त्रनधानता और
त्रजस मागा से वे पहले अए थे, वह पानी बढ़ जाने के कारण ऄस्पष्ट
ऄसमानता के ऐसे कारण त्रन:संदह
े वास्तत्रवक हैं। लेदकन त्रनधानता हो गया था। आस त्रस्थत्रत में नेपोत्रलयन ने ऄपने सैत्रनकों को अदेश
के ग्‍भीर एवं ऄत्रधक वैत्र क कारणों पर प्रायः कम चचाा की जाती ददया दक वे ईसके चारो ओर बाहर की तरि ऄपने चेहरे को रखते
है। वै ीकरण द्वारा परस्पर स्‍बद्धता की जगाइ गइ आस ई्‍मीद के हुए चक्र के ऄरों (त्रतल्ली) की भाुँत्रत घेरा बना लें। ईसके बाद प्रत्येक
पीछे वैत्र क त्रनणायों, नीत्रतयों और प्रथाओं का योगदान है। ये सैत्रनक घोड़े पर सवार होकर तब तक अगे बढ़ा जब तक ईसने स्वयं
त्रवत्रशष्ट रूप से समृद्ध और शत्रिशात्रलयों द्वारा प्रभात्रवत, संचात्रलत, को तैरने की त्रस्थत्रत में नहीं पाया, आस त्रबन्दु पर ईन्हें वापस लौर्टना
या त्रनर्ममत की जाती हैं। ये समृद्ध देशों के नेता या ऄन्य वैत्र क था और ऄपने ईस त्रनकर्टतम व्यत्रि का ऄनुसरण करना था त्रजसका
ऄत्रभकताा जैसे बहुरा्ट्र ीय त्रनगम, संस्थान और प्रभावशाली लोग हो घोड़ा ऄभी भी ठोस जमीन पर चल रहा था। शीघ्र ही सभी सैत्रनक
सकते हैं। ऐसे ऄत्यत्रधक बाह्य प्रभाव की त्रस्थत्रत में, त्रनधान देश और ईन घुड़सवारों का ऄनुसरण कर रहे थे त्रजनके घोड़े ऄभी भी समुद्र
तल पर अगे बढ़ रहे थे। वे सभी भीग जरूर गए दकन्तु लाल सागर
ईनकी जनता प्रायः शत्रिहीन होते हैं। पररणामस्वरूप, वैत्र क से बचकर सकु शल त्रनकल अए।
संदभा में, कु छ समृद्ध हो जाते हैं जबदक ऄत्रधकतर संघषा करते रहते 11. ईपयुाि पररच्छेद में त्रनत्रहत सवाात्रधक तार्ककक, तका संगत
हैं। और महत्वपूणा संदश
े क्या है?
9. पररच्छेद के ऄनुसार त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-सा कथन
(a) साहस, प्रलयंकर त्रस्थत्रतयों पर त्रवजय प्राप्त करने में
सही है? लोगों की सहायता कर सकता है।
(a) लेखक त्रनधानता के त्रलए, त्रनधान देशों की सरकारों पर (b) जब जीवन दांव पर लगा हो तो धैया ही सबसे
अरोप लगा रहा है। महत्वपूणा गुण होता है।
(b) लेखक त्रवकत्रसत देशों द्वारा दकए गए गरीबी ईन्मूलन (c) संकर्ट काल में, नेतृत्वकताा की ऄलग सोच पूरे समूह
प्रयासों से संतुष्ट है। की पररसंपत्रत्त होती है।
(c) लेखक का त्रवश्वास है दक समृद्ध देश गरीब देशों की (d) नेतृत्वकताा को स्व-कें दद्रत नहीं होना चात्रहए। ईसे
त्रनधानता के त्रलए ईत्तरदायी हैं। सवाप्रथम समूह के कल्याण के त्रवषय में त्रवचार करना
(d) लेखक आस तथ्य से सहमत है दक त्रनधान लोग चात्रहए।
त्रनधानता से मुत्रि प्राप्त करने के त्रलए पयाा्त करठन
पररश्रम नहीं कर रहे हैं। पररच्छेद 3

बीसवीं सदी के मध्य तक, ऄमेररकी और ऑस्रेत्रलयाइ आत्रतहास की


10. लेखक का मानना है दक त्रनधानता के कारण वैत्र क हैं।
पाठ्यपुस्तकें यह वणान दकया करती थीं दक यूरोत्रपयनों ने ऄमेररका
त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-सा कारण वैत्र क नहीं है?
और ऑस्रेत्रलया की 'खोज' कै से की। वे वहाुँ के मूल त्रनवात्रसयों के
(a) तीसरी दुत्रनया के देशों के नेता।
यूरोत्रपयों के प्रत्रत शिुतापूणा मनोदशा रखने के ऄत्रतररक्त कदात्रचत्
(b) वे लोग, जो वैत्र क स्तर पर प्रभाव रखते हैं।
ही ईनका ईल्लेख दकया करती थीं । हालांदक 1840 के दशक में
(c) शत्रिशाली रा्ट्र ों के नेता।
ऄमेररका में नृत्रवज्ञात्रनयों ने आन लोगों के संबंध में ऄध्ययन दकया।
(d) त्रवत्रभन्न देशों में िै ली हुईं समृद्ध कं पत्रनयाुँ।
बहुत बाद में, 1960 के दशक से, मूल त्रनवात्रसयों को ऄपने
पररच्छेद 2 आत्रतहास त्रलखने या बोलकर त्रलखवाने (आसे मौत्रखक आत्रतहास कहा
जाता है) के त्रलए प्रोत्सात्रहत दकया गया। अज, मूल त्रनवात्रसयों
1798 के असपास, त्रमस्र में सीररया से होकर गुजरते समय,
नेपोत्रलयन एवं ईसके कु छ ऄ ारोही सैत्रनकों ने एक शांत दोपहर द्वारा त्रलखे गए ऐत्रतहात्रसक ग्रन्थों एवं काल्पत्रनक कहात्रनयों को
एवं लाल सागर के भार्टे का लाभ ईठाया और सागर पार कर ईसके पढ़ना संभव है, और आन देशों के संग्रहालयों में अने वाले अगंतुक
त्रवपरीत तर्ट पर शुष्क समुद्री तल पर पहुुँच गए। वहां ईन्होंने 'मूसा 'देशी कला' दीघााओं और अददम जीवनशैली को प्रदर्मशत करने वाले
के कुुँ ए' कहे जाने वाले कु छ झरनों का दौरा दकया। त्रजज्ञासा संतुष्ट
त्रवशेष संग्रहालय देखेंगे।

3 www.visionias.in ©Vision IAS


12. ईपयुक्
ा त पररच्छेद के संदभा में त्रन्‍नत्रलत्रखत में से कौन- पररच्छेद 5
सा/से कथन सही है/हैं?
आस ऄवत्रध से पीछे देखने पर, लगभग ऐसा प्रतीत होता है दक
1. मूल त्रनवात्रसयों का आत्रतहास त्रलखा जाना 1840 के
ऄंग्रेज एक के बाद एक अकत्रस्मक पररत्रस्थत्रतयों और भाग्यवश
दशक के बाद से अर्‍भ हुअ। ऄनायास प्राप्त सिलताओं के कारण भारत पर प्रभुत्व स्थात्रपत
2. आत्रतहास में मूल त्रनवात्रसयों के संबंध में ईल्लेख नहीं करने में सिल रहे। प्राप्त होने वाले शानदार पुरस्कार की तुलना में
पाया जाता क्योंदक वे त्रनरक्षर थे। ऄत्यत्रधक कम प्रयास से ही ईन्होंने एक महान साम्राज्य एवं प्रचुर
3. मूल त्रनवात्रसयों के ऐत्रतहात्रसक वणान खोजकतााओं स्‍पदा पर त्रवजय प्राप्त कर ली। कालांतर में आसने ईन्हें त्रवश्व की
द्वारा त्रलखे गए थे। ऄग्रणी शत्रि बनाने में सहयोग दकया। ऐसा प्रतीत होता है दक
नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए: घर्टनाओं में मामूली पररवतान भी स्‍भवत: ईनकी अशाओं को
धराशायी करने और ईनकी महत्वाकांक्षाओं को समा्त करने हेतु
(a) के वल 1 (b) के वल 2
पयाा्त होता। वे कइ ऄवसरों पर परात्रजत हुए थे, जैसे हैदर ऄली
(c) के वल 2 और 3 (d) आनमें से कोइ नहीं।
और र्टीपू द्वारा, मराठों, त्रसखों और गोरखाओं द्वारा। यदद वे थोड़े
पररच्छेद 4 भी कम भाग्यशाली रहे होते तो भारत से ईनके पांव ईखड़ जाते,
या ऄत्रधक से ऄत्रधक के वल कु छ तर्टीय क्षेिों पर ही ईनका ऄत्रधकार
जब आब्रात्रहम लोदी पूवी प्रांतों के त्रवद्रोही ऄमीरों से लड़ने में व्यस्त रहा होता। दके न्तु दिर भी सूष्म परीक्षण यह ईजागर करता है दक
था, तब पंजाब के गवनार, दौलत खाुँ लोदी ने बाबर को भारत में ईस समय की त्रवद्यमान पररत्रस्थत्रतयों में जो कु छ हुअ, वह त्रनत्रित
प्रवेश करने और आब्रात्रहम लोदी को हराने के त्रलए अमंत्रित दकया। रूप से एक सीमा तक ऄवश्य्‍भावी था। त्रनत्रित रूप से भाग्य
बाबर और आब्रात्रहम लोदी की सेनाओं के बीच 20 ऄप्रैल, 1526 को ईनके साथ था, दकन्तु सौभाग्य का लाभ ईठाने की योग्यता भी
पानीपत में युद्ध हुअ। आस युद्ध में, सेना की संख्या की दृत्रष्ट से ऄवश्य ही होनी चात्रहए।
ऄव्वल होते हुए भी आब्रात्रहम परास्त हो गया और मारा गया। 14. लेखक के दृत्रष्टकोण का सार-संक्षेप त्रन्‍नत्रलत्रखत में से
पानीपत के युद्ध में बाबर की ऐत्रतहात्रसक त्रवजय, ईसकी श्रेष्ठ युद्ध दकस कथन से सवोत्तम रूप में ऄत्रभव्यक्त दकया जा
रणनीत्रतयों एवं प्रत्रशत्रक्षत ऄ ारोही सेना के कु शल पररत्रनयोजन सकता है?
एवं तोपखाने के त्रवशाल भण्िार के कारण संभव हुइ थी। बाबर (a) ऄंग्रज
े भाग्यपूणा घर्टनाओं के कारण भारत पर प्रभुत्व
द्वारा अर्‍भ की गइ नइ रणनीत्रतयाुँ तुग्लमा और ऄराबा थीं। स्थात्रपत करने में सिल हुए थे।
तुग्लमा का ऄथा पूरी सेना को त्रवत्रभन्न आकाआयों में त्रवभात्रजत करना (b) ऄंग्रेज सिल हुए क्योंदक वे हार के बाद भी दृढ़ बने
था, ऄथाात बाईं सेना, दाईं सेना और कें द्रीय सेना। ईसके बाद कें द्र रहे थे।
के ऄग्र प्रभाग को ठे लागात्रड़याुँ (ऄराबा) प्रदान की जाती थीं। ईन (c) भारत ऄपनी कमजोररयों के कारण ऄंग्रेजों के ऄधीन
ठे लागात्रऺियों को शिु का सामना करने वाली पंत्रि में रखा जाता था रहा था।
और जानवरों की खाल से बनी रत्रस्सयों से एक-दूसरे से बांध ददया (d) यत्रद्यप यह भाग्यवश प्राप्त हुअ पुरस्कार प्रतीत होता
जाता था। ईनके त्रपछले भाग में तोपों को पदों से सुरत्रक्षत और
है, तथात्रप ग्‍भीरतापवाक परीक्षण करने से भारत
संभाल कर रखा जाता था और ईससे तोपों के साथ सरलतापूवक ा
पैंतरे बाज़ी की जा सकती थी। पर ऄंग्रज
े ों का प्रभुत्व स्थात्रपत होने के कारण स्पष्र्ट
हो जाते हैं।
13. ईपयुक्
ा त पररच्छेद का त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन
सा सवाात्रधक तार्ककक त्रनष्कषा है? पररच्छेद 6
(a) ऄत्रधकांश ऐत्रतहात्रसक युद्धों में त्रव ासघात के कारण
ऄंग्रेजों एवं िचों ने सिहवीं शता्‍दी में दत्रक्षण ऄरीकीका को
पराजय प्राप्त हुइ है।
ईपत्रनवेश बनाया। िचों के वंशजों (त्रजन्हें बोऄर या ऄरीकीकानेर के
(b कु छ महत्वपूणा युद्धों में संख्याबल से नहीं बत्रल्क
रणनीत्रत द्वारा त्रवजय प्राप्त की गयी है। नाम से जाना जाता है) पर ऄंग्रेजों का वचास्व स्थात्रपत होने के
(c) त्रवदेशी लोग भारत अए, लेदकन भारतीय संस्कृ त्रत कारण िचों ने ऑरें ज रीकी स्र्टेर्ट और रांसवाल नामक ऄपनी नइ
का त्रहस्सा बन गये। कॉलोत्रनयाुँ स्थात्रपत क। । लगभग 1900 इ. में आन भूत्रमयों में हीरे
(d) भारत का पत्रिमी सीमांत क्षेि त्रवदेशी अक्रमण के की खोज के बाद ऄंग्रज
े ों ने आस पर अक्रमण कर ददया त्रजससे बोऄर
त्रलए सदा ही सुभेद्य था। युद्ध त्रछड़ गया। आं ग्लैंि से स्वतंिता प्रा्त होने के बाद, 1940 के
दशक में ऄरीकीकानेर नेशनल पार्टी द्वारा भारी बहुमत प्राप्त करने में

4 www.visionias.in ©Vision IAS


सक्षम होने तक, दोनों समूहों के बीच सत्ता की ऄसहज साझेदारी वृत्त A के भीतर नहीं है। यदद दकसी भी बबदु से के वल एक
चलती रही। नेशनल पार्टी के रणनीत्रतज्ञों ने अर्मथक और सामात्रजक ही रे खा बनायी जा सकती है, तो आनमें से दकन्ही
प्रणाली पर ऄपने त्रनयंिण को सुदढ़ृ करने के माध्यम के रूप में
दो त्रबन्दुओं को जोड़ने वाली ऐसी ऄत्रधकतम दकतनी
रं गभेद की नीत्रत का अत्रवष्कार दकया। अर्‍भ में, रं गभेद की नीत्रत
रे खाएं बनायी जा सकती हैं त्रजसका एक छोर के वल वृत्त
का लष्य नस्लीय पृथकता को बढ़ावा देते हुए गोरों के वचास्व को
A के भीतर हो, जबदक दूसरा छोर के वल वृत्त B के भीतर
बनाए रखना थाI। 60 के दशक में, क्षेिीय पृथकता एवं पुत्रलस
हो?
दमन पर जोर देते हुए ''वृहत् रं गभेद नीत्रत'' की एक योजना
(a) 6 (b) 4
कायाात्रन्वत की गइ।
(c) 5 (d) 9
15. ईपयुक्
ा त पररच्छेद का त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन सवाात्रधक
तार्ककक त्रनष्कषा है?
18. एक परीक्षा में, राधा ने मीरा से ऄत्रधक ऄंक प्रा्त दकए
(a) बहुमूल्य संसाधनों की ईपत्रस्थत्रत ने ऄंततोगत्वा
और गीता ने सररता से ऄत्रधक ऄंक प्रा्त दकए। यदद गीता
ऄरीकीकी देशों का त्रवनाश कर ददया।
ने भी मीरा से ऄत्रधक ऄंक प्रा्त दकए, तो दकसने सबसे
(b) ऄत्रवकत्रसत देश की स्वतंिता वहां सामात्रजक
ऄव्यवस्था ईत्पन्न कर सकती है। कम ऄंक प्रा्त दकए?
(c) सामात्रजक भेदभाव के कु छ रूपों की जड़ें सत्ता हेतु (a) मीरा
संघषा में पायी जा सकती हैं। (b) सररता
(d) कु छ समुदायों का अर्मथक त्रपछड़ापन सामात्रजक (c) गीता
त्रवभाजनों के रूप में प्रकर्ट हो सकता है। (d) त्रनधााररत नहीं दकया जा सकता।

16. ईपयुक्
ा त पररच्छेद के संदभा में, ऄदरीककानेर नेशनल पार्टी 19. दकसी त्रवशेष ईत्पाद के ईत्पादन में चार काया शात्रमल हैं।
द्वारा कायाात्रन्वत '''वृहत् रं गभेद नीत्रत'' की योजना की काया B को के वल काया A के समा्त होने के बाद ही प्रारं भ
सवाात्रधक वैध व्याख्या क्या है? दकया जा सकता है। काया A और C को पहले प्रारं भ
(a) नस्लीय भेदभाव का राजनीत्रतकरण। दकया जाना है और वे एक साथ प्रारं भ दकए जा सकते हैं।
(b) त्रवद्यमान नस्लीय भेदभाव में वृत्रद्ध। काया D को के वल B और C के पूरा होने के बाद ही
(c) नस्लीय भेदभाव का ईन्मूलन। प्रारं भ दकया जा सकता है और यह ऄंत्रतम काया है। यदद
काया A, B, C और D में क्रमशः 2 घंर्टे, 4 घंर्टे, 5 घंर्टे
(d) नस्लीय भेदभाव का दशानशास्ि।
और 6 घंर्टे का समय लगता है, तब वह न्यूनतम समय
ऄवत्रध क्या है त्रजसमें ईत्पादन काया को पूरा दकया जा
17. दो वृत्त, वृत्त A और वृत्त B नीचे दी गयी अकृ त्रत में
सकता है? (मान लीत्रजए दक एक काया को ख़त्म करके
ददखाए ऄनुसार कागज़ की एक शीर्ट पर बनाए गए हैं ।
दूसरा काया शुरू होने के बीच कोइ समय-ऄन्तराल नहीं
है)
(a) 12 घंर्टे (b) 11 घंर्टे
(c) 17 घंर्टे (d) 10 घंर्टे

त्रनम्नत्रलत्रखत 2 (दो) प्रश्नों के त्रलए त्रनदेश :


त्रनम्नत्रलत्रखत कथनों का सावधानीपूवाक त्रनरीक्षण कीत्रजए और अगे
अने वाले 2 (दो) प्रश्नों के ईत्तर दीत्रजए:
वृत्त A के भीतर A1, B1, C1, D1, E1 और F1 नामक
600 वाहन प्रत्रतददन एक एकददशीय रोि नेर्टवका में बबदु A से बबदु
छः बबदु बनाए गए हैं । आनमें से, के वल बबदु F1 वृत्त B के
Z तक त्रनम्नत्रलत्रखत त्रचि में ददखाए ऄनुसार यािा करते हैं:
भीतर है । चार बबदु A2, B2, C2 और D2 वृत्त B के
भीतर आस तरह बनाए गए हैं दक आनमें से कोइ भी बबदु
5 www.visionias.in ©Vision IAS
23. त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-सा संयोजन ईन लोगों को प्रस्तुत
करता है जो बेक्र्टर के ठीक बायीं ओर एवं बेक्र्टर के बायीं
ओर दूसरे स्थान पर हैं?
(a) दीपक और मनीषा
(b) दीपक और त्रित्रतक
(c) ऄक्षय और मनीषा
(d) ऄक्षय और रणबीर
बबदु B, C, M, D और E नेर्टवका के जंक्शन हैं। प्रत्येक मागा को
दशााने वाली असन्न रे खाओं के साथ की संख्या ईस मागा पर यािा 24. तरुण के बायीं ओर तीसरे स्थान पर कौन है?
करने की लागत (रूपए में) को दशााती है। प्रत्येक वाहन A से Z तक (a) दीपक (b) बेक्र्टर
जाने के त्रलए न्यूनतम लागत वाला मागा ऄपनाता है। यदद दो या
(c) त्रित्रतक (d) मनीषा
दो से ऄत्रधक मागा पर अने वाली लागत समान है, तो ईन पर
बराबर संख्या में वाहनों को त्रवतररत दकया जाता है।
25. ग्यारह त्रवद्याथी A, B, C, D, E, F, G, H, I, J और K
20. प्रत्रतददन A से Z तक जाने वाले 600 वाहनों में से प्रत्येक
त्रशक्षक की ओर मुंह करके कक्षा की पहली पंत्रि में बैठे
का खचाा (रूपए में) क्या है?
हुए हैं। कक्षा में पीछे से देखा जाए तो, D, जो F के ठीक
(a) 8 (b) 9
बायीं ओर है, C के दायीं ओर दूसरे स्थान पर है। A, E के
(c) 10 (d) 11
दायीं ओर दूसरे स्थान पर है, जो एक छोर पर है। J, A
और B का नजदीकी पड़ोसी है और G के बायीं ओर
21. त्रनम्नत्रलत्रखत में से दकस जंक्शन पर ऄत्रधकतम रैदिक
तीसरे स्थान पर है। H, D के ठीक बायीं ओर है और I के
होता है ?
दायीं ओर तीसरे स्थान पर है। कौन पंत्रि के ठीक मध्य में
(a) B और C (b) D और E बैठा है?
(c) D और M (d) M और E (a) B (b) C
(c) G (d) I
22. ऄलका ने ररतेश से ऄत्रधक ऄंक प्रा्त दकए, ररतेश ने र्टोनी
से ऄत्रधक ऄंक प्रा्त दकए। र्टोनी ने दीप से ऄत्रधक ऄंक
त्रनम्नत्रलत्रखत 7 (सात) प्रश्नों के त्रलए त्रनदेश:
प्रा्त दकए। लकी के प्रा्त ांक मानस से कम हैं, त्रजसके
त्रनम्नत्रलत्रखत सात पररच्छेदों को पदढ़ए और प्रत्येक पररच्छेद के अगे
प्रा्त ांक दीप से कम हैं। दकसने सबसे कम ऄंक प्रा्त दकए? अने वाले प्रश्नों के ईत्तर दीत्रजए। आन प्रश्नों के अपके ईत्तर आन
(a) मानस (b) र्टोनी पररच्छेदों पर ही अधाररत होने चात्रहए।
(c) लकी (d) ररतेश
पररच्छेद 1

त्रनम्नत्रलत्रखत 2 (दो) प्रश्नों के त्रलए त्रनदेश : मंगल पर जाने का त्रनणाय करने के बाद, आसरो के पास गुँवाने हेतु
त्रनम्नत्रलत्रखत कथनों का सावधानीपूवाक त्रनरीक्षण कीत्रजए और अगे समय नहीं था क्योंदक त्रनकर्टतम प्रक्षेपण ऄवसर (लॉन्च बविो) कु छ
ही महीनों दूर था। आसरो आस ऄवसर को हाथ से नहीं जाने देना
अने वाले 2 (दो) प्रश्नों के ईत्तर दीत्रजए:
चाहता था क्योंदक ऄगला प्रक्षेपण ऄवसर 780 ददनों के बाद वषा
ऄक्षय, मनीषा, दीपक, परे श, रणबीर, तरुण, बेक्र्टर और त्रित्रतक
2016 में ही अता। आसत्रलए, त्रमशन हेतु योजना त्रनमााण, ऄंतररक्ष
एक गोलाकार मेज़ के चारों ओर मेज़ के कें द्र की ओर मुंह करके बैठे
यान और प्रक्षेपण वाहन का त्रवत्रनमााण एवं सहायक प्रणात्रलयों को
हुए हैं। मनीषा, ऄक्षय के बायीं ओर तीसरे स्थान पर है, जो तरुण
तैयार करने का काया तेजी से दकया गया।
के बायीं ओर दूसरे स्थान पर है। दीपक, त्रित्रतक के दायीं ओर दूसरे 26. त्रनम्नत्रलत्रखत में से ईपयुाक्त पररच्छेद से त्रनकाला जा
स्थान पर है, जो तरुण के दायीं ओर दूसरे स्थान पर है। रणबीर सकने वाला सवाात्रधक तका संगत और तार्ककक त्रनष्कषा क्या
बेक्र्टर के दायीं ओर दूसरे स्थान पर है, जो तरुण का त्रनकर्टतम है?
पड़ोसी नहीं है।
6 www.visionias.in ©Vision IAS
(a) आसरो मंगल ग्रह पर जाने का ऄवसर खोना पसंद 10% से भी कािी ऄत्रधक व्यापकता पायी जाती है। आन देशों में
नहीं करता है। मध्य-पूवा के कु छ देश सत्र्‍मत्रलत हैं, जहाुँ कु छ प्रकरणों में मध्यम
(b) त्रपछले त्रमशन के 780 ददनों के बाद ही कोइ ऄन्य अयुवगा के वयस्कों के बीच मधुमेह की व्यापकता 16% से ऄत्रधक
मंगल त्रमशन लॉन्च दकया जा सकता है।
है।
(c) मंगल त्रमशन की तैयारी कम समयावत्रध में पूरी
28. त्रनम्नत्रलत्रखत में से ईपयुाक्त पररच्छेद से त्रनकाला जा
करनी पड़ी थी।
सकने वाला सवाात्रधक तका संगत और तार्ककक त्रनष्कषा क्या
(d) त्रमशन हेतु योजना त्रनमााण, ऄंतररक्ष यान और
है?
प्रक्षेपण वाहन का त्रनमााण दकसी भी ऄंतररक्ष त्रमशन
के सबसे महत्वपूणा भाग हैं। (a) मध्यम अयुवगा के सभी वयस्कों को आं सुत्रलन के
त्रन:शुल्क आंजेक्शन ददए जाने चात्रहए।
पररच्छेद 2 (b) आस महामारी से त्रनपर्टते समय ि्‍ल्यू.एच.ओ. द्वारा
सभी देशों से समान व्यवहार दकया जाना चात्रहए।
अजकल वैज्ञात्रनक मुख्य रूप से वैज्ञात्रनक पद्धत्रत का ईपयोग कर
(c) भारत को त्रचन्ता नहीं करनी चात्रहए क्योंदक यहाुँ
व्यत्रिगत व एकल प्रयोग करते हैं। आसके ऄंतगात वे पहले एक
मधुमेह की व्यापकता कम है।
पररकल्पना त्रनर्ममत कर प्रयोग अर्‍भ करते हैं, ईसके बाद एकल
(d) सावाजत्रनक स्वास््य सुत्रवधाओं को मधुमेह के
प्रयोग करते हैं, ईसके बाद ईि प्रयोग से अंकड़े एकत्रित और
ईपचार की सुत्रवधाओं से सुसत्रित दकया जाना
सुव्यवत्रस्थत करते हैं। आन अंकड़ों के त्रवश्लेषण से एक मॉिल त्रनर्ममत चात्रहए।
दकया जाता है, जो पूवाानुमान लगाता है। आन पूवाानम
ु ानों को
पररच्छेद 4
प्रकात्रशत दकया जाता है, जो ऄन्य लोगों को और भी ऄत्रधक प्रयोग
करने के त्रलए प्रेररत करते हैं। वैज्ञात्रनक त्रवत्रध का यह चक्र और भी
लोक प्रशासक, ऄपने कॉरपोरे र्ट स्वदेशवात्रसयों की तुलना में स्वयं
ऄत्रधक अंकड़े एवं नए पूवाानुमान ईत्पन्न करने के त्रलए तब तक
को ईच्च नैत्रतक मानकों के प्रत्रत ऄत्रधक दृढ़ मानते हैं। प्रत्येक दस में
दोहराया जाता है जब तक दक पूवाानम
ु ानों के त्रवषय में सवास्‍मत्रत से लगभग नौ हमेशा आस मत का त्रतरस्कार करते पाये जाते हैं दक
त्रवकत्रसत नहीं होती।
''ऄमेररका में सरकारी नैत्रतकता का स्तर व्यापाररक नैत्रतकता की
27. त्रन्‍नत्रलत्रखत में से कौन-सा त्रवकल्प ईपयुाक्त पररच्छेद का
तुलना में त्रन्‍नस्तरीय है।'' लोक प्रशासक स्वयं को ऄपने वेतनों हेतु
सवोत्तम रूप से सार-संक्षप
े प्रदान करता है?
भुगतान करने वाले कर दाताओं की तुलना में भी ऄत्रधक ईच्च
(a) वैज्ञात्रनक ऄपने प्रयोगों को व्यत्रिगत रूप से करते नैत्रतक मानकों का ऄनुपालन करने वाला मानते हैं। वे सरकारी
हैं। घोर्टालों पर सामान्य जनता की तुलना से भी ऄत्रधक रोष दजा करते
(b) व्यत्रिगत प्रयोगों के पूवाानुमानों के त्रवषय में हैं। आस प्रसंग में यह महत्वपूणा है दक ऄपने गैरलाभ एवं व्यापाररक
सवास्‍मत्रत त्रवकत्रसत करने के त्रलए वैज्ञात्रनक समकक्षों की तुलना में सरकारी कमाचाररयों द्वारा ईपयुि
त्रवत्रधयों का चक्र ऄपनाया जाता है। प्रात्रधकाररयों तक कदाचार के संबंध में त्रशकायत दजा करने की
संभावना ऄत्रधेक होती है और ईनमें ऐसा करने की आच्छाशत्रि तेजी
(c) वैज्ञात्रनक प्रयोगों का प्रयोजन एक मॉिल का त्रनमााण
से बढ़ रही है।
करता है।
29. त्रनम्नत्रलत्रखत में से ईपयुाक्त पररच्छेद से त्रनकाला जा
(d) वैज्ञात्रनक प्रयोग पररकल्पना, मॉिल और पूवाानुमानों
सकने वाला सवाात्रधक तका संगत और तार्ककक त्रनष्कषा क्या
के एक त्रनधााररत पैर्टना का ऄनुपालन करते हैं।
है?
पररच्छेद 3 (a) ऄमेररका में लोक प्रशासक यह त्रव ास करते हैं दक
सरकारी नैत्रतकता का स्तर, व्यापाररक नैत्रतकता के
त्रवश्व मधुमेह की महामारी का सामना कर रहा है। वतामान में, स्तर से कम है।
त्रवश्व के 250 त्रमत्रलयन से ऄत्रधक लोग मधुमेह से पीत्रड़त हैं और (b) लोक प्रशासक नैत्रतक पथ पर चल रहे हैं।
यह पूवाानम
ु ान लगाया गया है दक ऄगले 20 वषों से कु छ ही ऄत्रधक (c) लोक प्रशासक ऄपनी नैत्रतकता का स्तर कर दाताओं
ऄवत्रध में यह संख्या दुगुनी हो जाएगी। यह महामारी त्रवश्व में के स्तर से भी उुँचा रखते हैं।
समTन रूप से त्रवतररत नहीं है। यद्यत्रप मधुमेह की वैत्र क (d) व्यापाररक लोग कदाचार की त्रशकायत ईपयुक्त
व्यापकता 3–4% है, तथात्रप कइ देशों और क्षेिों में मधुमेह की प्रात्रधकाररयों तक नहीं करते हैं।

7 www.visionias.in ©Vision IAS


पररच्छेद 5 (c) ईपयुाक्त पररच्छेद के अलोक में कौशल की पररभाषा
पररवर्मतत की जानी चात्रहए।
सरकारों में त्रन्‍नस्तरीय नैत्रतक वातावरण वस्तुतः नागररकों एवं (d) प्रशासन में सिल जीवन हेतु दकसी भी व्यत्रि को
व्यापारों की ऄत्रधक क्षत्रत व हात्रन तथा जनता से ऄत्रधक त्रशकायतें नैत्रतक होना चात्रहए।
प्राप्त होने से संबद्ध है। आसके त्रवपरीत ईच्च नैत्रतकता वाला
वातावरण (ऄथाात् ऐसे प्रबंधक जो नैत्रतक ईदाहरण स्थात्रपत करते पररच्छेद 7
हैं एवं ईच्च नैत्रतक मानकों को संचाररत एवं कायाात्रन्वत करते हैं)
ईपयोत्रगतावाददयों के मत, ‘ऄत्रधकतम व्यत्रियों के ऄत्रधकतम सुख’
ऐसे कमाचाररयों की कम संख्या से सह-संबंत्रधत है जो के वल बीमार
पड़ने पर ही ऄवकाश लेते हैं और वह ऄवकाश भी कम ऄवत्रध का के स्थान पर, सभी के त्रलए न्यूनतम पररहाया (त्रजनसे बचना
ही लेते हैं। ईनके कमाचाररयों द्वारा यह त्रवचार करने की संभावना संभव हो) दु;खों की मांग की जानी चात्रहए; एवं ईसके बाद
ऄत्रधक होती है दक ईनके त्रवभाग ग्राहकों को ईनके धन के बदले में ऄपररहाया दु;खों को यथासंभव समान रूप से त्रवतररत दकया जाना
बेहतर गुणवत्ता की सेवाएुँ प्रदान करते हैं। वे कमाचारी ईन चात्रहए।
त्रवभागों में त्रनरं तर काया करते रहने की योजना रखते हैं। नैत्रतकता 32. त्रनम्नत्रलत्रखत में से पररच्छे द में त्रनत्रहत सवाात्रधक तार्ककक,
की ग्‍भीर भावना वाले शीषा स्तरीय सरकारी ऄत्रधकारी एक ऐसी त्रववेकपूणा एवं महत्वपूणा संदश
े क्या है?
सरकार चलाते हैं त्रजस पर कम ऄत्रभयोग लगते हैं, त्रजसकी बांि (a) ईपयोत्रगतावादी पूज
ुँ ीवाददयों का पक्ष लेते थे, त्रजनमें
रे रर्टग्स बेहतर होती है एवं त्रजसके द्वारा ईत्पादकता में सुधार करने कमाचाररयों के दु;खों के प्रत्रत स्‍मान का कोइ भाव
की ऄत्याधुत्रनक तकनीकों को कायाात्रन्वत करने की ऄत्रधक संभावना नहीं होता था।
होती है। (b) दकसी भी व्यत्रि को दु;ख से बचाना चात्रहए।

30. त्रन्‍नत्रलत्रखत में से कौन-सा त्रवकल्प ईपयुाक्त पररच्छेद का (c) दु;खों से बचना संभव नहीं है।

सवोत्तम रूप से सार-संक्षेप प्रदान करता है? (d) दु;खों से बचने के स्थान पर हमें आन्हें समान रूप से
त्रवतररत करने पर ध्यान के त्रन्द्रत करना चात्रहए।
(a) नैत्रतकता प्रभावशाली सरकार का त्रवकास करती है।
(b) नैत्रतक प्रबंधक सरकारी संगठन में नैत्रतक वातावरण
33. राहुल के ऄनुसार, ईसकी अयु 35 वषा से ऄत्रधक लेदकन
स्थात्रपत करते हैं।
(c) ऄत्याधुत्रनक ईत्पादकता सुधार शीषा लोक 44 वषा से कम है। ईसके भाइ के ऄनुसार, राहुल की अयु
ऄत्रधकाररयों की पहलों द्वारा ही हो सकते हैं। 36 वषा से ऄत्रधक लेदकन 42 वषा से कम है और ईसकी
(d) कमाचारी सदैव यह त्रवश्वास करते हैं दक ईनके मां के ऄनुसार, राहुल की अयु 40 वषा से कम है। यदद
त्रवभाग ग्राहकों को ईनके धन का बेहतर मूल्य प्रदान ईपयुाि सभी अंकलन सत्य हों एवं अयु एक पूणा संख्या
करते हैं। हो ईसकी सभी संभात्रवत अयु का औसत क्या है?

पररच्छेद 6 (a) 37 वषा (b) 38 वषा


(c) 39 वषा (d) 35 वषा
नैत्रतकता वास्तव में एक कौशल है। गुण एवं क्षमता की ऄवधारणाएुँ
व्यावहाररक रूप से एक समान हैं क्योंदक गुण, प्रबंधकीय क्षमताओं
34. एक शहर के सवेक्षण में, यह पाया गया दक 65% लोग
की ऄत्रभन्न त्रवशेषता है। ईच्च नैत्रतकता बेहतर प्रशासन एवं ऄत्रधक
र्टेलीत्रवज़न पर समाचार देखते हैं, 40% ऄख़बार पढ़ते हैं
सिल सावाजत्रनक कै ररयर से संबद्ध है।
और 25% ऄख़बार पढ़ने के साथ-साथ र्टेलीत्रवज़न पर
31. त्रनम्नत्रलत्रखत में से ईपयुाक्त पररच्छेद से त्रनकाला जा
समाचार भी देखते हैं। सवेक्षण में सत्र्‍मत्रलत दकतने
सकने वाला सवाात्रधक तार्ककक त्रनष्कषा क्या है? प्रत्रतशत लोग न तो र्टेलीत्रवज़न पर समाचार देखते हैं और
(a) सरकार को ऄब प्रबंधकीय क्षमताओं पर और ऄत्रधक न ही ऄख़बार पढ़ते हैं?

ध्यान के त्रन्द्रत नहीं करना चात्रहए। (a) 20% (b) 30%

(b) लोक सेवकों के त्रनयोजन हेतु नैत्रतकता ही एकमाि (c) 80% (d) 25%

मानदण्ि होनी चात्रहए।

8 www.visionias.in ©Vision IAS


35. एक कक्षा में 25 त्रवद्यार्मथयों के माध्य ऄंक 34 हैं। बाद में, (a) जॉबगग एक व्यत्रि के स्वास््य पर प्रत्रतकू ल प्रभाव
यह पाया गया दक एक स्थान पर 65 को गलती से 56 िालती है।
त्रलख ददया गया था। सही माध्य क्या है? (b) त्रनयत्रमत जॉबगग करना स्वास््य के त्रलए ऄच्छा
होगा।
(a) 35.1 (b) 34.36
(c) शेखर त्रनयत्रमत रूप से जॉबगग करता है।
(c) 34.6 (d) 35.24
(d) रि पररसंचरण िदय का प्रमुख काया है।

36. बंर्टी का घर ऄलका के घर के पूवा में है, लेदकन बचर्टू के घर


40. सभी ऄच्छे गायक नृत्य करना चाहते हैं और सभी गायक,
के ईत्तर में है। बचर्टू का घर िेज़ी के घर के पत्रिम में
है।िेज़ी का घर, ऄलका के घर से दकस ददशा में है? जो नृत्य करना चाहते हैं, त्रजमनात्रस्र्टक में त्रनपुण हैं;

(a) दत्रक्षण – पूवा (b) पूवा आसत्रलए सभी गायक जो त्रजमनात्रस्र्टक नहीं जानते, बुरे
गायक हैं।
(c) ईत्तर – पूवा (d) पत्रिम
आस कथन का सवोत्तम त्रनष्कषा यह है दकः
(a) कोइ भी बुरा गायक नृत्य नहीं करना चाहता।
37. p माह, p स्त ाह और p ददनों में दकतने ददन होते हैं, यदद
(b) कोइ भी गायक जो त्रजमनात्रस्र्टक में त्रनपुण नहीं है,
मान लीत्रजए दक एक माह में 30 ददन हैं ? एक ऄच्छा गायक नहीं है।
(a) 30p2 (b) 30 (c) प्रत्येक गायक जो त्रजमनात्रस्र्टक में त्रनपुण हैं, ऄच्छे
(c) 120p (d) 38p गायक हैं।
(d) सभी गायक जो नृत्य करते हैं, ऄच्छे गायक हैं।

38. त्रनम्नत्रलत्रखत कथन पर त्रवचार कीत्रजए:


त्रनधान या समृद्ध रा्ट्र ों में, भ्रष्टाचार से सबसे त्रनधान लोग त्रनम्नत्रलत्रखत 5 (पांच) प्रश्नों के त्रलए त्रनदेश: त्रनम्नत्रलत्रखत दो
सवाात्रधक प्रभात्रवत होते हैं, हालांदक समाज के सभी तत्व पररच्छेदों को पदढ़ए और प्रत्येक पररच्छेद के अगे अने वाले प्रश्नों
के ईत्तर दीत्रजए। आन प्रश्नों के अपके ईत्तर आन पररच्छेदों पर ही
दकसी न दकसी प्रकार से प्रभात्रवत हैं क्योंदक भ्रष्टाचार
अधाररत होने चात्रहए।
राजनीत्रतक त्रवकास, लोकतंि, अर्मथक त्रवकास,
पररच्छेद 1
पयाावरण, लोगों के स्वास््य एवं और भी कइ चीज़ों को
ऄक्र्टू बर 2014 में िे त्रलन नामक चक्रवात तूिान ने भारत के पूवी
खोखला कर देता है।
ईपरोि कथन से त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-सा त्रनष्कषा तर्ट पर ऄपनी पूरी प्रचंिता से चोर्ट दकया और सुदरू त्रस्थत गाुँवों

त्रनकाला जा सकता है ? पर प्रहार दकया, त्रजसके प्रभाव से त्रवद्युत लाइनें र्टू र्ट गयीं, पेड़ त्रगर
(a) त्रनधान रा्ट्र ों का राजनीत्रतक त्रवकास समृद्ध रा्ट्र ों से गये और त्रमट्टी से बनी झोपत्रड़यां ईड़ गईं। परन्तु एक त्रवशाल
त्रवध्वंस के िर त्रनमूाल त्रसद्ध हुए। प्रत्रतवेदनों से पता चलता है दक
कम है।
जीवन और स्‍पत्रत का न्यूनतम क्षय हुअ। आसका पूरा श्रेय ऄदभुत
(b) समृद्ध रा्ट्र ों में त्रनधान लोगों की संख्या कम है।
अपदा प्रबन्धन को ददया जा सकता है, जो त्रपछले चक्रवात की
(c) भ्रष्टाचार की जड़े रा्ट्र त्रनमााण में त्रनत्रहत हैं।
त्रस्थत्रतयों में ऄसिल रहा था, त्रजसके कारण मानव जीवन को
(d) ईपयुाि में से कोइ नहीं। त्रवनाशकारी पररणाम भुगतने पड़े थे। ईसके पिात भारी वषाा से
भयंकर बाढ़ अ सकती थी, जो अपातकालीन बचाव और सहायता
39. दो दोस्तों के बीच त्रनम्नत्रलत्रखत बातचीत पर त्रवचार ऄत्रधकाररयों के त्रलए एक चुनौती हो सकती थी।
कीत्रजए: ऐसे समय में भारतीय मौसम त्रवभाग द्वारा हवा की गत्रत की सर्टीक
शेखर: त्रनयत्रमत जॉबगग लंबी अयु में प्रभावशाली वृत्रद्ध भत्रवष्यवाणी, िे त्रलन तूिान के स्‍बन्ध में प्राथत्रमक चेतावनी और
दशााती है। क्षत्रत पहुुँचाने की क्षमता की जानकारी त्रमलते ही तत्काल ऄनुदक्रया
प्रवीण: त्रनत्रित रूप से, जॉबगग से रि पररसंचरण में और समय रहते ही, ओत्रिशा और अंध्रप्रदेश के समुद्र तर्टीय क्षेिों से
सुधार होता है एवं िदय की क्षमता में वृत्रद्ध होती है। लगभग 8,00,000 लोगों को सुरत्रक्षत स्थानों पर पहुुँचाना, आसके
त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-सा त्रवकल्प प्रवीण के त्रव ास को
साथ ही पूणत ा या सुत्रनयोत्रजत ढंग से घातक तूिान से बचाए गये
प्रत्रतबबत्रबत करता है? लोगों के त्रलए दकये गये अपातकालीन प्रावधान आस प्रकार के
9 www.visionias.in ©Vision IAS
अशावादी संकेत हैं दक देश का अपदा प्रबन्धन प्रात्रधकरण ऄपने 42. पररच्छेद के ऄनुसार, तूिान के शांत होने के पिात वे
प्रयासों से आस त्रस्थत्रत को स्‍भालने में सक्षम रहा है। जुलाइ में जब
कौन से काया हैं त्रजन्हें दकया जाना चात्रहए?
ईत्तराखंि में घातक बादल िर्टा था तो आस प्रकार के महा-प्रयास
का पूणरूा पेण ऄभाव रहा था। 1. पयाावरण की दृत्रष्ट से स्‍वेदनशील क्षेिों में ऄत्रनयंत्रित
बहुत ही कम जनहात्रन और त्रजन क्षेिों को िे त्रलन के झोंको ने बुरी त्रवकास पर रोक लगाना।
तरह प्रभात्रवत दकया था, वहां तुरंत ही त्रवद्युत् लाआनों और 2. तूिान के शांत हो जाने के पिात स्‍भात्रवत भारी
वषाा के त्रलए तैयारी करना।
मोबाआल तन्ि को पुनः अर्‍भ कर देना, अपदा प्रबन्धन के प्रत्रत
3. मोबाआल संपका और रे लवे संचालन को पुनः शुरू
नपी-तुली पद्धत्रत के ईन संकेतों को प्रकर्ट करता है, त्रजनकी 1999 करना।
में अये ईस तूिान के समय पूणत
ा ः ऄभाव था। तब तूिान ने नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए :
ओत्रिशा के त्रवस्तृत क्षेिो को तहस-नहस कर ददया था। ईस समय के (a) के वल 1 और 3 (b) के वल 2 और 3
अपातकालीन ऄनुदक्रया र्टीम (इ.अर.र्टी.) ने ऄपने अप को के वल (c) के वल 1 और 2 (d) 1, 2 और 3
त्रनम्न-प्रबलता वाले तूिान और ईनकी लहरों से अने वाली बाढ़ों के
त्रलए ही तैयार दकया था। ओत्रिशा और अंध्रप्रदेश के ग्रामीण क्षेिों
पररच्छेद 2
में स्वास््य सेवाओं और ईसके त्रलए चलती-दिरती आकाइयों को
दक्रयाशील करना बहुत स्‍वेदनशील और महत्वपूणा काया था। ऄब
जब तूफ़ान शांत हो गया है, तो प्रात्रधकाररयों ने तत्काल ही रे लवे खाद्य सुरक्षा सुत्रनत्रित करने में कृ त्रष महत्वपूणा भूत्रमका त्रनभाती है,
साथ ही साथ यह भारत के सकल घरे लू ईत्पाद (जी. िी. पी.) के
संचालन को भी पुनः अर्‍भ कर ददया है।
बड़े त्रहस्से का कारण भी बनती है। यह श्रमशत्रि के दो त्रतहाइ को
जैसे ही मौसम स्‍बन्धी जानकाररयों से लैस, एक सुत्रनयोत्रजत लाभप्रद रोज़गार प्रदान करती है। कइ ईद्योग यथा चीनी, सूती-
योजना को कायाात्रन्वत दकया जाता है तो त्रवपरीत पररत्रस्थत्रतओं के वस्त्र, जूर्ट, खाद्य और दुग्ध प्रसंस्करण आत्यादद ऄपने कच्चे माल की
त्रवरुद्ध संघषा पर अधी त्रवजय सुत्रनत्रित हो जाती है। अपदा अवश्यकता के त्रलए कृ त्रष-ईत्पादन पर त्रनभार करते हैं।
प्रबन्धन के कमाचारी पहले से ही प्रत्रशत्रक्षत हों और ईनके पास ऄन्य अर्मथक क्षेिों से आसके त्रनकर्ट स्‍बन्ध के कारण, कृ त्रष त्रवकास
अपातकालीन त्रस्थत्रतयों से सामना करने का अवश्यक कौशल
का स्‍पूणा ऄथाव्यवस्था पर गुणक प्रभाव पड़ता है। वतामान में,
सुत्रनत्रित करने से बहुत ही लाभ होता है। आससे भी ऄत्रधक
जलवायु पररवतान का ख़तरा दीघाकात्रलक कृ त्रष त्रवकास के त्रलए
महत्वपूणा अपदा प्रबन्धन का त्रवकास पररयोजनाओं से जोड़ा जाना चुनौती प्रस्तुत कर रहा है। यह ख़तरा पयाावरण में एकत्रित
हो सकता है और आस प्रकार दकया गया क्षमता त्रवकास सामान्य ग्रीनहाईस गैस के ईत्सजान (जो ईत्पत्रत्तकाल से ही दीघाकालीन
और अपदा, दोनों ही त्रस्थत्रतयों में सहायक हो सकता है। यह गहन औद्योत्रगक त्रवकास तथा ईच्च खपत वाली जीवनशैली और
प्राथत्रमकताओं का पररणाम है) के कारण कइ गुणा बढ़ जाता है।
सुत्रनत्रित करना भी ऄत्रत अवश्यक है दक पयाावरण की दृत्रष्ट से
चूंदक ऄंतराा्ट्र ीय समुदाय सामूत्रहक रूप से आस खतरे से त्रनपर्टने हेतु
संवेदनशील क्षेिों को ऄसावधान और ऄत्रनयंत्रित त्रवकास कायों से
एकजुर्ट हो रहा है, भारत को भी जलवायु पररवतान और ऄत्रस्थरता
बचा कर रखा जाए, ऐसा ही एक दुभााग्यपूणा लक्षण ईत्तराखंि में से स्वयं को ऄनुकूत्रलत करने के त्रलए एक रा्ट्र ीय रणनीत्रत की
ईजागर हुअ था। अवश्यकता है तादक यह ऄपनी सामात्रजक-अर्मथक त्रवकासात्मक
प्राथत्रमकताओं के बीच पाररत्रस्थत्रतकीय त्रनरं तरता सुत्रनत्रित कर
41. पररच्छेद के ऄनुसार, त्रनम्नत्रलत्रखत कथनों में से कौन-से सके ।
कथन सही हैं? देश की खाद्यान्न और अजीत्रवका की सुरक्षा सुत्रनत्रित करने हेतु
1. चक्रवाती तूिान िे त्रलन 1999 में ओत्रिशा में अये कृ त्रष महत्वपूणा है और आसत्रलए यह अवश्यक है दक यह क्षेि बढती
जलवायु संबंधी ऄत्रस्थरता और पररवतानों के प्रत्रत लचीला रहे। एक
तूिान से कम त्रवध्वंसकारी था।
प्रत्यास्थ कृ त्रष ईत्पादन प्रणाली प्रचंितम जलवायु संबंधी
2. 1999 में अये हुए तूिान के दौरान, अपदा प्रबन्धन
पररवतानीयता के दौरान ईत्पादकता बनाए रखने हेतु एक पूवा-शता
की कोइ क्रमवार पद्धत्रत नहीं थी। है। यद्यत्रप भारतीय कृ षकों ने आन वषों के दौरान सामना कर सकने
नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए : में सक्षम बनाने वाली प्रणात्रलयों का त्रवकास दकया है जो एक ओर
(a) के वल 1 (b) के वल 2 पुनरावती प्रचंितम घर्टनाओं के तीव्रतम रूप, दूसरी ओर जलवायु
(c) 1 और 2 दोनों (d) न तो 1, न ही 2 के मानदंिों में धीमी गत्रत से होने वाले पररवतान, त्रजसमें सतही
तापमान में वृत्रद्ध, वषाण रूप पररवतान, वाष्पन ईत्सजान दर में वृत्रद्ध

10 www.visionias.in ©Vision IAS


और त्रमट्टी की घर्टती अद्राता अदद से त्रनपर्टने की प्रभावी जवाबी 47. पांच त्रमिों ददनेश, सुभाष, त्रवजेन्द्र, हरवीर और रत्रचत के
रणनीत्रत के पैमाने पर खरे नहीं ईतर पाए हैं। आसत्रलए यह समय बारें में त्रनम्नत्रलत्रखत कथनों पर त्रवचार कीत्रजए:
की मांग है दक जलवायु पररवतान के प्रत्रत भारतीय कृ त्रष की
1. ददनेश की उुँचाइ त्रवजेन्द्र के बराबर है।
प्रत्यास्थता और आसमें वृत्रद्ध हेतु कृ त्रष संबंधी अधुत्रनक शोधों को
2. हरवीर, सुभाष से ऄत्रधक ल्‍बा है।
दकसानों के स्वदेशी ज्ञान से जोड़ ददया जाये।
3. सुभाष, त्रवजेन्द्र से ऄत्रधक ल्‍बा है।
43. पररच्छेद के ऄनुसार, कृ त्रष के त्रवकास का स्‍पूणा
ऄथाव्यवस्था पर गुणक प्रभाव होता है। आस कथन से क्या 4. रत्रचत ईन सबमें सबसे ल्‍बा है।
त्रनष्कषा प्रा्त दकया जा सकता है? यदद ईन्हें ईनकी लंबाइ के क्रम में त्रबठाया जाय, तो मध्य
1. कृ त्रष त्रवत्रवध ईद्योगों को कच्चे माल की अपूर्मत करता स्थान कौन ग्रहण करे गा?
है। आस प्रकार, कृ त्रष का त्रवकास होने पर पूरी ऄथाव्यवस्था (a) सुभाष (b) हरवीर
में वृत्रद्ध होती है। (C) त्रवजेन्द्र (d) ददनेश
2. कृ त्रष ईत्पादों की मािा बढ़ने पर, ऄथाव्यवस्था को
बेहतर त्रनयाात से लाभ होता है। 48. एक दक्रके र्ट मैच में A, B की ऄपेक्षा ऄत्रधक रन बनाता है,
नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर चुत्रनए :
जो C की ऄपेक्षा ऄत्रधक रन बनाता है। C ईतने रन
(a) के वल 1 (b) के वल 2
बनाता है त्रजतने D बनाता है। E, F की ऄपेक्षा कम रन
(c) 1 और 2 दोनों (d) न तो 1, न ही 2
बनाता है और F, D की ऄपेक्षा कम रन बनाता है। सबसे
कम रन कौन बनाता है?
44. पररच्छेद का के न्द्रीय भाव है:
(a) F (b) B
(a) कृ त्रष संबंधी दीघाकालीन त्रवकास हेतु जलवायु
पररवतान से त्रनपर्टने की अवश्यकता पर बल देना। (c) E (d) C
(b) ऄथाव्यवस्था के त्रलए कृ त्रष के त्रवकास के महत्व पर
बल देना। 49. त्रनम्नत्रलत्रखत कथनों पर त्रवचार कीत्रजए:
(c) जलवायु पररवतान को झेल सकने वाली कृ त्रष प्रणाली “मोर्टापा और अय के बीच संबंध वास्तत्रवक हैं, और
की अवश्यकता पर बल देना। िास्र्ट िू ि और मोर्टापे के बीच संबंध भी, यद्यत्रप ईतने
(d) ईपयुाि में से कोइ नहीं।
स्पष्र्ट नहीं हैं, दकन्तु संभवत: वास्तत्रवक हैं” "
उपर ददए गए कथन से त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-सा कथन
45. पररच्छेद के ऄनुसार, त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन सत्य हैं?
त्रनष्कर्मषत दकया जा सकताहहै?
1. जलवायु पररवतान एक नयी समस्या है जो दीघाकालीन
(a) मोर्टापा और अय दूसरे से प्रत्यक्षत: जुड़े हैं, जबदक
कृ त्रष व्यवस्था के मागा में अ खड़ी हुइ है।
िास्र्ट िू ि और मोर्टापा नहीं।
2. कृ त्रष के लचीलापन से तात्पया यह है दक जलवायु
(b) यह प्रदर्मशत करने का कोइ त्रनणाायक प्रमाण नहीं है
संबंधी ईग्रतम (सवाात्रधक प्रत्रतकू ल) त्रस्थत्रत में भी यह
दक िास्र्ट िू ि मोर्टापे की ओर बढ़ाता है।
िसल के ईत्पादन को बनाए रख सके ।
नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए : (c) ईच्चतर अय भोजन के ईच्चतर ईपभोग और
(a) के वल 1 (b) के वल 2 आसत्रलए मोर्टापे की ओर बढ़ाती है।
(d) मोर्टापा स्वास््य पर और ऄत्रधक खचा जत्रनत कर
(c) 1 और 2 दोनों (d) न तो 1, न ही 2
त्रनम्न अय की ओर बढ़ाता है।

46. एक पंत्रि में 'A' बाएं से 14वें स्थान पर है, और ‘B’ दाएं
50. “नए ऄध्ययन के ऄनुसार यह भय त्रनराधार प्रतीत होता
से 7वें स्थान पर है। यदद ‘A’ और ‘B’ ऄपनी त्रस्थत्रतयों
है दक आत्रतहास की सबसे ऄत्रधक जानलेवा, वतामान मे
को अपस में बदल लें, तो ‘A’ बाएं से 23वाुँ हो जाता है।
िै ली आबोला महामारी, पूवा के प्रकोपों की ऄपेक्षा ऄत्रधक
पंत्रि में ‘A’ और ‘B’ के ऄत्रतररि दकतने व्यत्रि और हैं?
घातक, तीव्र गत्रत वाले और सरलता से संक्रमणीय
(a) 27 (b) 26
त्रवषाणु द्वारा जत्रनत की गइ थी”
(c) 25 (d) 24
11 www.visionias.in ©Vision IAS
त्रनम्नत्रलत्रखत ऄनुमानों में से कौन-सा सही है? (d) काबोनेर्ट चट्टानों का त्रनमााण, वातावरणीय काबान
(a) आबोला प्रकोप सामान्यत: एक घातक और संक्रमणीय िाआऑक्साआि को प्राकृ त्रतक रूप से कम करता है।
त्रवषाणु द्वारा दकया जाता हैं।
(b) आबोला प्रकोप आत्रतहास की सबसे जानलेवा महामारी 53. 28 िरवरी 2013 को गुरुवार था। 28 िरवरी 1613 को
है।
कौन-सा ददन था?
(c) वतामान आबोला प्रकोप के त्रलए ईत्तरदायी त्रवषाणु ने
(a) शुक्रवार (b) गुरुवार
ईत्पररवतान दकया है।
(c) बुधवार (d) मंगलवार
(d) त्रवषाणु ने त्रबना दकसी ईत्पररवतान के भी आत्रतहास
की सबसे जानलेवा महामारी ईत्पन्न की है।
54. एक दीवाल घड़ी प्रत्येक घंर्टे 10 त्रमनर्ट पीछे हो जाती है,
जबदक दूसरी 10 त्रमनर्ट अगे हो जाती है। यदद दोनों
51. "यह दयनीय है दक ऄत्रधकांश ऄवसंरचनात्मक
पररयोजनाएं लागत और लाभ त्रवश्लेषण के अधार पर घत्रड़याुँ मंगलवार को 1 PM पर एक साथ समय ददखाती
स्वीकृ त की जाती हैं। यह दकसी पररयोजना की सामात्रजक हैं, तो वे दुबारा एक साथ एक ही समय कब ददखाएंगी?
लागत की स्‍पूणा ईपेक्षा कर पूरी तरह से अर्मथक हात्रन (a) बुधवार को 1 PM पर
और लाभ पर अधाररत हैं।”
(b) गुरुवार को 4 PM पर
ईपयुक्
ा त कथन से त्रनम्नत्रलत्रखत में से क्या ऄनुमान दकया
(c) बुधवार को 6 AM पर
जा सकता है?
(d) गुरुवार को 1 AM पर
(a) एक ऄवसंरचनात्मक पररयोजना के लागत-लाभ
त्रवश्लेषण में आसकी सामात्रजक लागत सत्र्‍मत्रलत नहीं
55. एक देश में 30 ददन वाले 12 महीनों के कै लेन्िर को माना
होती।
जाता है। हर सप्ताह में सामान्य त्रग्रगोररयन कलैन्िर की
(b) ऄवसंरचनात्मक पररयोजना हेतु स्वीकृ त्रत आसकी
भांत्रत 7 ददन होते है। यदद आस प्रकार के कै लेन्िर में वषा
सामात्रजक लागत को ध्यान में नहीं रखती।
का पहला ददन सोमवार है, तो वषा का ऄत्रन्तम ददन क्या
(c) ऄवसंरचनात्मक पररयोजना की सामात्रजक लागत से
होगा?
कोइ अर्मथक हात्रन नहीं होती, और आसत्रलए यह लागत-
(a) सोमवार (b) मंगलवार
लाभ त्रवश्लेषण में सत्र्‍मत्रलत नहीं की जाती।
(c) बुधवार (d) शत्रनवार
(d) (a) और (b) दोनों।

56. त्रन्‍नत्रलत्रखत में से कौन से वषा के कलैन्िर में ददनों का


52. “वातावरणीय काबान िाआऑक्साआि (CO2) का एकमाि
समान प्रत्रतरूप वषा 2025 के ही समान होगा?
महत्वपूणा प्राकृ त्रतक स्रोत ज्वालामुखीय गत्रतत्रवत्रधयाुँ हैं,
और महत्वपूणा त्रनवारण के वल काबोनेर्ट चट्टानों के (a) 2030 (b) 2042
ऄवक्षेपण द्वारा होता है।” (c) 2041 (d) 2032
उपर ददए कथन से त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-सा त्रनष्कषा 57. एक ग्रह में ददन की ऄवत्रध के वल 6 घंर्टे की है और
त्रनकाला जा सकता है? आसत्रलए ईस ग्रह में घत्रड़याुँ का िॉयल के वल 6 घंर्टे
(a) ज्वालामुखीय गत्रतत्रवत्रधयाुँ और काबोनेर्ट चट्टानों का ददखाता है। प्रत्येक घंर्टा 120 त्रमनर्ट ल्‍बा है। वह
ऄवक्षेपण, क्रमश: वातावरणीय काबान िाआऑक्साआि के समयावत्रध क्या है त्रजसके बाद त्रमनर्ट की सुइ और घंर्टे की
प्राकृ त्रतक स्रोत और त्रनवारण के एकमाि माध्यम हैं। सुइ बार-बार एक दूसरे के ठीक उपर अएंगी?

(b) ज्वालामुखीय गत्रतत्रवत्रधयाुँ, काबान िाआऑक्साआि के (a) 144 त्रमनर्ट (b) 44 त्रमनर्ट
सवाात्रधक महत्वपूणा स्रोत का त्रनमााण करती हैं। (c) 121 त्रमनर्ट (d) 98 त्रमनर्ट
(c) काबोनेर्ट चट्टानों का ऄवक्षेपण, ज्वालामुखीय
गत्रतत्रवत्रधयाुँ से ईत्पन्न काबान िाआऑक्साआि का त्रनवारण
करता है।
12 www.visionias.in ©Vision IAS
त्रनम्नत्रलत्रखत 6 प्रश्नों के त्रलए त्रनदेश: त्रनम्नत्रलत्रखत दो पररच्छेदों को वाली भूत्रम के त्रनजी स्वात्रमयों पर करारोपण प्रतीत होता हो। आस
पदढ़ए और प्रत्येक पररच्छेद के अगे अने वाले प्रश्नों के ईत्तर मूल ईद्देश्य को पुनस्थाात्रपत दकये जाने की अवश्यकता है। भूत्रम का
दीत्रजए। आन प्रश्नों के अपके ईत्तर आन पररच्छेदों पर ही अधाररत कोइ भी वृहद ऄत्रधग्रहण बाज़ार मूल्य से कम पर नहीं दकया जा
होने चात्रहए। सकता, त्रवशेषतः आस कारण दक यह एक प्रत्यावती कर के रूप में
पररच्छेद 1 होता है त्रजसका लाभ त्रवशेषतः सरकार और ईन लाभार्मथयों के
बीच साझा दकया जाता है जो सामान्यतः वास्तत्रवक त्रनजी पक्ष
1894 का भूत्रम ऄत्रधग्रहण ऄत्रधत्रनयम जो हमारे मुख्य त्रवत्रनयमनों
होते हैं।
का त्रनधाारण करता है, एक सदी से भी ऄत्रधक पुराना है। यद्यत्रप आस
58. पररच्छेद के ऄनुसार त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन सही नहीं
ऄत्रधत्रनयम में कइ बार संशोधन दकये जा चुके हैं, ऄंत्रतम बड़ा
है?
संशोधन 1984 में दकया गया था, तथात्रप आसके अधारभूत
(a) “सामात्रजक ईद्देश्य” की व्यापक रूप से स्वीकृ त कोइ
प्रावधान मूल रूप में सुरत्रक्षत रहे हैं और भूत्रम ऄत्रधग्रहण की
पररभाषा नहीं है।
प्रदक्रया ऄब तक पुरातन है।
(b) ”सामात्रजक ईद्देश्यों” को अर्मथक श्‍दावली में तय
भूत्रम ऄत्रधग्रहण के त्रवषय में कम-से-कम दो मुद्दों पर ध्यान ददया
नहीं दकया जा सकता।
जाना चात्रहए। प्रथम, यदद भूत्रम को दकसी त्रनजी पक्ष से ऄत्रधगृहीत
(c) त्रसिा न्यायाधीश आस बात का त्रनधाारण नहीं कर
दकया जाना है, तो सरकार को ईस “सामात्रजक ईद्देश्य” का
सकते दक वैध “सामात्रजक ईद्देश्य” की रचना दकन चीज़ों
त्रनधाारण करना चात्रहए त्रजसके त्रलए भूत्रम को आस प्रकार
के त्रमलने से हो सकती है।
ऄत्रधगृहीत दकया जा सकता है। त्रद्वतीय, भूस्वामी को त्रजस मूल्य के
(d) ईपयुाि में से कोइ नहीं।
ऄनुसार क्षत्रत-पूर्मत की जानी है, ईसकी गणना की जानी चात्रहए।
भूत्रम ऄत्रधग्रहण के त्रलए “सामात्रजक ईद्देश्य” की पररभाषा पूणत
ा ः 59. पररच्छेद के सन्दभा में त्रनम्नत्रलत्रखत कथनों पर त्रवचार
कीत्रजए:
अर्मथक मुद्दा नहीं है। संयुि राज्य ऄमेररका के सवोच्च न्यायालय ने
1. ऄत्रनवाया भूत्रम ऄत्रधग्रहण के पीछे मूल ऄत्रभप्राय कु छ
हाल ही में आस सामात्रजक ईद्देश्य अधार पर त्रनजी संपत्रत्त के
ऄड़चनों को हर्टाकर सामात्रजक रूप से अवश्यक
ऄत्रधग्रहण की ऄनुमत्रत आस अधार पर दे दी दक मॉल के त्रबना शहर
पररयोजनाओं के त्रलए भूत्रम ईपल्‍ध कराना था।
ऄपने ऄत्रस्तत्व को बचाए रखने के त्रलए पयाा्त राजस्व ईत्पन्न नहीं
2. 1984 के ऄत्रधत्रनयम का ईपयोग प्रत्यावती कर को
कर सकता था , आसमें मॉल का त्रनमााण करने की ऄनुमत्रत भी
अरोत्रपत करने वाले क़ानून के रूप में दकया गया है
सत्र्‍मत्रलत थी । आस त्रनणाय को ईदारवादी (यथा प्रगत्रतशील)
त्रजससे सरकार और सामान्यतः त्रनजी पक्षों को लाभ
न्यायमूर्मत स्र्टीिे न ब्रेयर जैसे न्यायधीशों का समथान प्रा्त था।
होता था।
यद्यत्रप कइ राज्यों में बहुत हो-हल्ला मचा और आस त्रनणाय को
3. भारत में, आस ऄत्रधत्रनयम के मूल ऄत्रभप्राय का
ईलर्टने हेतु त्रवधेयक लाया गया ।
ईल्लंघन दकया गया है।
ऄंततः, भूत्रम ऄत्रधग्रहण हेतु वैध सामात्रजक ईद्देश्य क्या हैं, आस पर भूत्रम ऄत्रधग्रहण के संदभा में ईपयुाि कथनों में से कौन-
लोकतांत्रिक रूप से त्रनणाय दकया जाना है। आस स्‍बन्ध में भारतीय साहसे कथन सही हैहहैं?
ऄनुभव शांत्रतपूणा नहीं रहा है क्योंदक सरकार ने बाजार मूल्य से
(a) के वल 1 और 2 (b) के वल 1 औऱ 3
कम पर भूत्रम ऄत्रधग्रहण दकया और त्रवशेष अर्मथक क्षेिों में
ईद्योगपत्रतयों को, गृह त्रनमााण पररयोजनाओं के त्रलए त्रनजी त्रबल्िरों (c) के वल 2 और 3 (d) 1, 2 और 3
को तथा वृहद् औद्योत्रगक पररयोजनाओं के त्रलये त्रनजी व्यवसायों
60. पररच्छेद के ऄनुसार, त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-से कथन
को प्रदान दकया। पत्रिम बंगाल के बसगूर में र्टार्टा नैनो पररयोजना,
वैध हैं?
त्रजसे ऄंततोगत्वा गुजरात ले जाना पड़ा, तथा ईड़ीसा में कोररया
1. बलपूवक
ा भूत्रम ऄत्रधग्रहण का पररणाम वृहत
की कं पनी पी.ओ.एस.सी.ओ. (पॉस्को) द्वारा स्थात्रपत की जाने
वाली स्र्टील पररयोजना के मामले में बहसा भड़क ईठी थी। सामात्रजक एवं पयाावरणीय लागत के रूप में प्रस्तुत हुअ
ऄत्रनवाया भूत्रम ऄत्रधग्रहण के पीछे मूल ऄत्रभप्राय सामात्रजक रूप से है।
अवश्यक दकसी पररयोजना, यथा राजमागा या रे ल-लाआनों के 2. सामात्रजक रूप से अवश्यक पररयोजनाओं में ईच्च पथ
या रे ल-लाआनें ही अती हैं।
त्रनमााण में होने वाले त्रवल्‍ब के त्रलए ईत्तरदायी कु छ बाधाओं को
नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए :
दूर करना था। वृहत पैमाने पर ऐसे दकसी भी ऄत्रधग्रहण को बाज़ार
(a) के वल 1 (b) के वल 2
मूल्य से कम पर नहीं दकया जाना था, जो ऄत्रधगृहीत की जाने
(c) 1 और 2 दोनों (d) न तो 1, न ही 2
13 www.visionias.in ©Vision IAS
पररच्छेद 2 (c) यह आस बात को दशााता है दक दकस प्रकार सूचना
प्रौद्योत्रगकी की शत्रि का लाभ ईठाया जा सकता है।
वतामान त्रवत्तीय और मानवीय ऄवरोधों पर त्रवजय प्रा्त करना और (d) ईपयुाि में से कोइ नहीं।
तीव्र गत्रत से स्वास््य सेवाओं की पहुुँच और प्रभावशीलता को
बढ़ाना, त्रवशेष रूप से प्राथत्रमक त्रचदकत्सकीय देखभाल के क्षेि में, 62. स्वास््य सेवा त्रवतरण और त्रनगरानी में सूचना
नवोन्मेष के त्रलए एक ईत्प्रेरक बन गया है। लोक स्वास््य और प्रौद्योत्रगकी और मोबाआल फ़ोनों के ईपयोग की क्या
व्यावसात्रयक त्रवद्यालयों में व्यापक रूप से ईद्धृत, ईदाहरण के संभावनाए हैं या साम्या है?
त्रलए ऄरत्रवन्द अइ के यर मॉिल, जो आस त्रसद्धांत पर अधाररत है 1. एक त्रवशेष प्रकार के ईपकरण का ईपयोग करते हुए
दक क्लीत्रनक में भुगतान कर पाने में सक्षम रोत्रगयों से प्रा्त कोष की त्रवत्रभन्न प्रकार के नैदात्रनक जांच दकये जा सकते हैं।
सहायता से त्रनधानों को दी जा रही त्रचदकत्सकीय देख-भाल को
2. ल्‍बी दूरी तक भी रोत्रगयों से स्‍बंत्रधत अंकड़ों को
ऄनुदात्रनत मूल्य पर ईपल्‍ध कराया जा सकता है। िदय रोगों की
भेजा जा सकता है।
शल्य त्रचदकत्सा जैसे जरर्टल क्षेिों में भी कम लागत के साथ बड़ी
संख्या में शल्य त्रचदकत्सा की सिलता को ईन ईच्च अय वाले देशों 3. स्वास््य के सामात्रजक त्रनधाारकों को स्वास््य सेवा
में सराहा जा रहा है जो बढ़ते स्वास््य देख-भाल संबंधी लागत के त्रवतरण के साथ जोड़ा जा सकता है।
बोझ तले दबे हैं। सूचना प्रौद्योत्रगकी में भारत का साम्या और नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए :
मोबाआल फ़ोनों का देशव्यापी प्रयोग, स्वास््य सेवा त्रवतरण और (a) के वल 2 (b) के वल 2 और 3
त्रनगरानी के क्षेि में कइ नव-प्रवतानों के स्रोत हैं और ऄब प्रभाव व (c) के वल 1 और 3 (d) के वल 1
व्यापकता के अधार पर आनका मूल्यांकन दकया जा रहा है। ग्रामीण
त्रनदानगृह (क्लीत्रनक) और सामुदात्रयक स्वास््य कें द्र पर एक बार
63. कौन-से ऄन्य क्षेि का स्वास््य सेवा पर गंभीर प्रभाव
आं र्टरनेर्ट संपका स्थात्रपत होते ही दकसी रोगी से स्‍बंत्रधत अंकड़ों
पड़ता है?
को के न्द्रीय सवार तक भेज सकते हैं; और तब सुदरू त्रस्थत
1. जल और स्वच्छता
त्रचदकत्सक, त्रचदकत्सकीय परामशा प्रदान कर सकते हैं।
यद्यत्रप आन सारे ऄनुकूल सके तों का तब तक कोइ प्रभाव नहीं होगा 2. कृ त्रष
जब तक नीत्रत त्रनमााता जल और स्वच्छता से लेकर पोषण और 3. उजाा
वातावरण अदद स्वास््य के सामात्रजक त्रनधाारकों पर दूरगामी 4. शहरी त्रवकास
कारवाइ नहीं करते। कृ त्रष संबंधी नीत्रतयों से लेकर शहरी त्रवकास
नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए :
तक और बलग समानता से लेकर ईन उजाा नीत्रतयों तक जो जैव-
(a) 1 और 2 (b) 2, 3 और 4
ईंधन को प्रत्रतस्थात्रपत करतीं हैं से घरे लू वायु प्रदूषण को कम करें ,
(c) 1, 3 और 4 (d) 1, 2, 3 और 4
आसके साथ ही ऄन्य क्षेिों में कारा वाइ भी स्वास््य सेवा पर
महत्वपूणा प्रभाव िाल सकती है। स्वास््य के क्षेि में महत्वपूणा
ईपलत्र्‍धयां पूरे समाज को लेकर दकये गए ईन प्रयासों के माध्यम 64. “ग्लूकोमा मुख्य रूप से एक ऄदृश्य रोग है दकन्तु यह
से ही प्रा्त हो सकती है जो त्रसिा रोग प्रबंधन नहीं बत्रल्क स्वास््य
अुँखों के प्रकाश तंतुओं को होने वाली क्षत्रत के कारण न
को प्रभात्रवत करने वाले कारकों से स्‍बंत्रधत हैं।
क्या भारत प्रत्येक नागररक हेतु जीवन के हर चरण में ऄच्छा ठीक होने वाले ऄंधेपन का प्रमुख कारण है। यदद ईपचार
स्वास््य सुत्रनत्रित कर सकता है तादक प्रत्येक राज्य कु शलता के न हो तो ग्लूकोमा कु छ वषों के भीतर पूणा स्थायी ऄंधापन
मामले में तत्रमलनािु और सामात्रजक त्रनधाारकों के मामले में के रल का कारण बन सकता है।”
से मुकाबला कर सके ? त्रनिय ही, यह ऐसा कर सकता है दकन्तु आसे
ईपयुाि कथन में के न्द्रीय त्रवचार क्या है?
काया रूप देने के त्रलए बहुत बड़े सामूत्रहक प्रयास की अवश्यकता
होगी। (a) ग्लूकोमा एक न ठीक होने वाला रोग है।
61. पररच्छेद के ऄनुसार, ऄरत्रवन्द अइ के यर मॉिल में कौन- (b) ग्लूकोमा जैसे रोगों को ऄनुपचाररत नहीं छोड़ा जाना
सा ऄत्रभनव पहलू सत्र्‍मत्रलत है? चात्रहए।
(a) यह त्रनम्न-लागत दकन्तु ईच्च पररमाण युि शल्य (c) ग्लूकोमा स्थायी ऄंधेपन का मुख्य कारण है।

त्रचदकत्सा के ईदाहरण के रूप में काया करता है। (d) ऄदृश्य रोग, वे रोग हैं जो ऄंधेपन पैदा करते हैं।
(b) यह स्वास््य-सेवाओं तक ऄत्रभगम बढ़ाने के मागा में
अने वाली त्रवत्तीय बाधाओं पर त्रवजय प्रा्त करता है।
14 www.visionias.in ©Vision IAS
65. “हम प्रायः यह सोचते हैं दक रे लगात्रड़याुँ चलती और 70. रात्रि भोजन के दौरान अठ त्रमि P, Q, R, S, T, U, V
रुकती कै से हैं। कारें हाआड्रोत्रलक ब्रेकों का प्रयोग करती हैं और W एक वृत्ताकार मेज के चारों ओर बैठे हुए हैं। Q,
जबदक भारत में ऄत्रधकाुँश रेनें न्यूमेरर्टक ब्रेकों या जैसा दक
W के त्रवकणात: सामने बैठा हुअ है। U, T के दात्रहनी ओर
ईन्हें अमतौर पर कहा जाता है एऄर ब्रेकों का प्रयोग
बैठा हुअ है। S और W एवं T और V के मध्य के वल एक
करती हैं।”
व्यत्रि है। R, Q या S के बाद नहीं बैठा हुअ है।
ईपयुाि कथन में के न्द्रीय त्रवचार क्या है?
U और W के बीच कौन बैठा हुअ है?
(a) रे लगात्रड़याुँ कै से रुकती है, यह ईत्सुकता का त्रवषय है।
(a) T (b) R
(b) रे लगात्रड़यों को रोकने की प्रदक्रया जरर्टल होती है।
(c) P (d) त्रनधााररत नहीं दकया जा सकता
(c) रे लगात्रड़यों में प्रयोग दकये जाने वाले ब्रेक, कारों में
प्रयोग दकये जाने वाले ब्रेकों से त्रभन्न होते हैं।
(d) लोगों को यह जानने में कोइ ईत्सुकता नहीं है दक 71. आन युग्मों में से कौन सा एक दूसरे के बगल नहीं बैठा हुअ
कारें कै से रुकती हैं। है?
(a) S और V (b) T और U
66. 2 PM के दकतने त्रमनर्ट बाद, घंर्टे और त्रमनर्ट की सुआयां (c) P और W (d) Q और R
त्रमलेंगी?
(a) 9 त्रमनर्ट (b) 10 त्रमनर्ट 72. V के त्रवकणात: सामने कौन बैठा हुअ है?
(c) 11 त्रमनर्ट (d) 12 त्रमनर्ट (a) U (b) P
(c) R (d) त्रनधााररत नहीं दकया जा सकता
67. बोिा की परीक्षाओं में यदद 60% छाि गत्रणत में ईत्तीणा
हुए और 70% छाि त्रवज्ञान में ईत्तीणा हुए, तो दोनों ही 73. S के बायीं ओर दूसरा कौन है?
त्रवषयों में ईत्तीणा होने वाले छािों का ऄत्रधकतम और (a) P (b) W
न्यूनतम प्रत्रतशत क्या है?
(c) R (d) Q
(a) 70, 30 (b) 60, 30
(c) 70, 60 (d) 60, 10
74. यदद रत्रक्षत और साक्षी ने आस वषा 4 माचा 2015 को
त्रनम्न 2 (दो) प्रश्नों के त्रलए त्रनदेश: ऄपनी शादी की 5वीं वषागांठ मनायी। वह ददन रत्रववार
त्रनम्न कथनों को पढ़ें और ईसके बाद अने वाले दो प्रश्नों के ईत्तर दें: था तो दो वषा पहले ईनकी वषागांठ पर सप्ताह का कौन-
एकसमान ददखने वाले गोलाकार गेंदों की एक त्रवत्रशष्ट संख्या एक सा ददन था?
वगााकार अव्यूह (matrix) के रूप में सजाइ गयी है, प्रत्येक पृष्ठ में (a) बुधवार (b) गुरुवार
गेंदों की संख्या n है। ऄब त्रनचले परत की प्रत्येक चार ऐसी गेंदों के (c) शुक्रवार (d) शात्रनवार
बीच बने ररि स्थान के उपर ईसी प्रकार की गेंदें रख दी जाती हैं
तादक दूसरे और ऄन्य परतों का त्रनमााण दकया जा सके । यह प्रदक्रया
तब तक जारी रहती है जब तक सबसे उपरी परत पर एक गेंद त्रनम्नत्रलत्रखत 3 (तीन) प्रश्नों के त्रलए त्रनदेश:
रखने का स्थान माि शेष रहे। त्रनम्नत्रलत्रखत पररच्छेद को पदढ़ए और पररच्छेद के अगे अने वाले
प्रश्नों के ईत्तर दीत्रजए। आन प्रश्नों के अपके ईत्तर आस पररच्छेद पर
68. दूसरे परत में दकतनी गेंदें होंगी? ही अधाररत होने चात्रहए।
(a) (n-1) × (n-1) (b) (n+1) × (n+1) पररच्छेद 1
(c) n × n (d) n!
69. सबसे उपरी परत में एक गेंद रहने तक दकतनी परतों का बजर्ट में ऄप्रत्यक्ष कर प्रस्तावों से होकर गुजरने वाली मुख्य बात है
त्रनमााण हो जाता है? सरकार के मेक-आन-आं त्रिया पहल को बढ़ावा देना। यह ईद्देश्य ऄप्रैल
2016 में वस्तु और सेवा कर (जी. एस. र्टी.) के दक्रयान्वयन पर
(a) n + 1 (b) n – 1
पुनः बल देने और त्रनमााण क्षेि को परे शान कर रही त्रवसंगत्रतयों में
(c) n (d) (n-1)!
सुधार में प्रत्यक्ष ददखता है।
15 www.visionias.in ©Vision IAS
सरकार ने ईद्योग जगत की कइ मांगों पर ऄनुदक्रया की है, दकन्तु 2. जी. एस. र्टी. एक ऄप्रत्यक्ष कर है त्रजसमें कें द्र और
त्रसिा अंत्रशक रूप से ही। बजर्ट ऄप्रैल 2016 के जी. एस. र्टी. की राज्यों का बराबर त्रहस्सा होगा।
दक्रयान्वयन त्रतत्रथ की पुनः पुत्रष्ट करता है, दकन्तु आसके त्रिजाआन का 3. जी. एस. र्टी. भारत सरकार की मेक-आन-आं त्रिया पहल
कोइ ्‍यौरा या आसके दक्रयान्वयन की कोइ रूप-रे खा नहीं प्रदान को बढ़ावा देगा।
करता। आस बात को देखते हुए दक यह कें द्र और राज्यों की एक नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए:
संयुि पहल है, आसकी त्रिजाआन को लेकर त्रनणाय त्रसिा जी. एस. र्टी. (a) के वल 1 और 3 (b) 1, 2 और 3
पररषद कर सकती है त्रजसे संवैधात्रनक संशोधन की संपुत्रष्ट के पिात (c) के वल 2 (d) के वल 1
बनाया जाना है।
यद्यत्रप ऄप्रैल 2016 से जी. एस. र्टी. का दक्रयान्वयन एक चुनौती 76. पररच्छेद के ऄनुसार, त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-साहसे जी.
ही बनी है। समय सीमा के भीतर आसे करने के त्रलए ढेर सारी एस. र्टी. लागू कर ददए जाने के बाद करारोपण व्यवस्था
तैयाररयों की अवश्यकता है। प्रथम, संवैधात्रनक संशोधन त्रवधेयक के स्‍बन्ध में सत्य हैहहैं?
को संसद और राज्यों की त्रवधान सभाओं द्वारा संपुष्ट दकए जाने की 1. मनोरं जन सेवायें यथा मनोरं जन कायाक्रमों में प्रवेश पर
अवश्यकता होगी। आसके बाद, जी. एस. र्टी. पररषद का त्रनमााण त्रसिा राज्य सरकार कर लगाएगी।
दकया जाएगा और जी. एस. र्टी. कानूनों को सरकार के दोनों स्तरों 2. घरे लू त्रनमााताओं के त्रलए आनपुर्टों पर ईत्पाद शुल्क
पर त्रनर्ममत दकये जाने की अवश्यकता होगी। आसके प्रशासन या घर्टा ददया जाएगा।
प्रबंधन हेतु सूचना प्रौद्योत्रगकी ऄवसंरचना को त्रिजाआन करना
3. सेवा कर और ऄत्रधक मदों पर लागू होने योग्य होगा।
समान रूप से चुनौतीपूणा है। आन पहलुओं को पूरा करने में कइ
नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए:
महीने लगेंगे। जी. एस. र्टी. के समय-बद्ध दक्रयान्वयन ने
व्यावसात्रयक समुदाय के त्रव ास को बहुत ऄत्रधक बढ़ा ददया होता (a) के वल 1 (b) के वल 2 और 3
यदद त्रवत्त मंिी ने आन गंभीर चरणों को दकस प्रकार पूरा करने की (c) के वल 1 और 3 (d) 1, 2 और 3
योजना स्पष्ट रूप से बता दी होती।
बजर्ट में त्रवत्रनमााण क्षेि में आनवर्टेि ड्यूर्टी संरचना की समस्या को
77. पररच्छेद के ऄनुसार, “त्रवत्रनमााण क्षेि की आनवर्टेि ड्यूर्टी
साथाकता से संबोत्रधत दकया गया है। वतामान में, आलेक्रॉत्रनक्स और
मोबाआल फ़ोनों जैसे बहुत से ईद्योगों में घरे लू स्तर पर त्रनर्ममत संरचना” का क्या ऄथा होता है?

ईत्पादों पर कर का प्रभावी बोझ अयात की ऄपेक्षा बहुत ऄत्रधक है, 1. स्वदेशी स्तर पर त्रनर्ममत ईत्पाद, अयात्रतत ईत्पादों
चूुँदक घरे लू त्रनमााताओं के त्रलए आनपुर्ट पर लगने वाला कर तैयार की ऄपेक्षा ऄत्रधक महंगे हैं।
ईत्पाद पर लगने वाले कर की ऄपेक्षा बहुत ऄत्रधक है। आस समस्या 2. एक स्वदेशी त्रनमााता ईसी ईत्पाद के अयातक की
के समाधान के त्रलए सरकार ने पुजों और सामत्रग्रयों की रें ज पर, ऄपेक्षा सरकार को ऄत्रधक कर देता है।
यथा एकीकृ त पररपथ मॉड्यूल्स, एल. इ. िी. ड्राआवरों तथा लै्‍पों 3. स्वदेश में ईत्पाददत त्रवत्रवध वस्तुओं के त्रलए अयात्रतत
अदद पर ईत्पाद शुल्क को 12% से घर्टा कर 6% कर ददया है। आनपुर्टों पर भारी ईत्पाद शुल्क लगता है।
नीचे ददए गए कू र्ट का प्रयोग कर सही ईत्तर चुत्रनए:
सेवा कर में छू र्ट की सूची से ईन मदों को छांर्ट कर छोर्टा कर ददया
गया है जो जी. एस. र्टी. के तहत करारोत्रपत होने वाले हैं। (a) के वल 1 और 3 (b) के वल 2 औऱ 3
त्रसनेमेर्टोग्रादिक दिल्म प्रदशान, सका स, चुबनदा खेल कायाक्रम, नृत्य (c) के वल 1 और 2 (d) 1, 2 और 3
और नाट्यशाला संबंधी प्रदशानों अदद को ऄपवाद रूप में छोड़
मनोरं जन सेवायें कर लगाने योग्य हो जाएंगी। ऐसे कायाक्रमों में 78. छ: क्‍पत्रनयों िे सबुक, त्रववर्टर, गूगल, अकुा र्ट,
प्रवेश पर त्रमलने वाली छू र्ट आस त्य को मान कर जारी रखी गयी
त्रवकीपीत्रिया और याहू के बारे में त्रनम्नत्रलत्रखत जानकारी
है दक संवैधात्रनक संशोधन के दौरान ये सेवायें राज्य करारोपण के का ऄध्ययन कीत्रजए और ईसके अगे अने वाले प्रश्नों के
दायरे में अ जायेंगी। ईत्तर दीत्रजए:
75. वस्तु और सेवा कर के सन्दभा में यदद बात करें तो, त्रववर्टर की ऄपेक्षा िे सबुक के ऄत्रधक ईपयोगकताा या
त्रनम्नत्रलत्रखत में से कौन-साहसे कथन सत्य हैहहैं? ईपभोिा हैं दकन्तु गूगल से कम हैं। त्रववर्टर के अकुा र्ट से
ऄत्रधक ईपयोगकताा हैं दकन्तु त्रवकीपीत्रिया से कम हैं।
1. जी. एस. र्टी. दक्रयान्वयन के त्रलए, जी. एस. र्टी. त्रवदकपीत्रिया िे सबुक से ऄत्रधक ईपयोगकतााओं का दावा
पररषद के त्रनमााण हेतु संत्रवधान में संशोधन की करती है। याहू के त्रवदकपीत्रिया से ऄत्रधक ईपयोगकताा हैं
अवश्यकता होगी।

16 www.visionias.in ©Vision IAS


लेदकन गूगल की तुलना में कम है। दकस कं पनी के
ईपयोगकतााओं की संख्या सवाात्रधक है?
(a) त्रवदकपीत्रिया (b) िे सबुक
(c) गूगल (d) त्रववर्टर

79. 5 लोगों, रत्रव, रजनी, ऊचा, ॠषव और रत्रचत के बारे में


त्रनम्नत्रलत्रखत कथनों पर त्रवचार करें और ईसके अगे पूछे
गए प्रश्न के ईत्तर दीत्रजए:
1. रत्रव ऊचा की तुलना में ल्‍बा है।
2. रजनी ऊचा की तुलना में ल्‍बी है।
3. ॠषव रजनी की तुलना में ल्‍बा है।
4. रत्रचत सबसे लंबा है।
यदद ईन्हें, ईनकी लंबाइ या उंचाइ के क्रम में बैठाया जाय
तो मध्य स्थान कौन धारण करे गा?
(a) रत्रव
(b) रजनी
(c) ॠषव
(d) त्रनधााररत नहीं दकया जा सकता।

80. रमेश के पास छ: दकताबें A, B, C, D, E और F, हैं,


त्रजनमें से प्रत्येक में पृष्ठों की संख्या ऄलग-ऄलग है। यह
भी ददया गया है दक:
1. B में A की तुलना में पृष्ठों की संख्या दुगुनी है।
2. D में C की तुलना में पृष्ठों की संख्या त्रतगुनी है।
3. C में A की तुलना में पृष्ठों की संख्या अधी और E की
तुलना में दुगुनी है।
4. E में F की तुलना में पृष्ठों की संख्या एक त्रतहाइ है।
त्रनम्नत्रलत्रखत पुस्तकों में से दकसमें पृष्ठों की संख्या न्यूनतम
है?
(a) पुस्तक A (b) पुस्तक C
(c) पुस्तक E (d) पुस्तक F

Copyright © by Vision IAS


All rights are reserved. No part of this document may be reproduced, stored in a retrieval system or
transmitted in any form or by any means, electronic, mechanical, photocopying, recording or otherwise,
without prior permission of Vision IAS

17 www.visionias.in ©Vision IAS